आगामीशाला: जस्टिस लीडर्स की पाठशाला

सीखिए और जुड़िये जस्टिस इन्नोवेटर्स के साथ

Play Video

अगामीशाला 2021 की हाइलाइट देखें

हम यहां क्या सीख रहे हैं?

जब हम किसी सिचुएशन में फंसा हुआ महसूस करते हैं, तब हम सोचते हैं की क्या हम अपनी प्रॉब्लम को सही तरीके से समझ रहे हैं? क्या हम सभ डाटा और इनफार्मेशन पर ध्यान दे रहे हैं? सिर्फ अपने दिमाग की ही नहीं, बल्कि क्या हम अपने दिल और शरीर से उत्पन्न हुए डाटा को भी समझ रहे हैं? कौन वह लोग हैं जो की इस अलग सोच से हमारी ही तरह प्रॉब्लम को देख रहे हैं? हम कैसे अपनी सेल्फ अवेयरनेस को बेहतर करें और साथ ही साथ, जिस सिस्टम को हम बदलना चाहते हैं, उसकी भी अवेयरनेस बढ़ाएं।

आगामीशाला ऐसी ही चीज़ों को समझने के लिए बनाई गयी है।

अपने अनुभव से, हम शाला में सीखते हैं कि अपनी समस्याओं को कैसे एक नए नजरिए से देखा जाए| अपने आसपास के समाज को हम कैसे बेहतर समझें| यह हम अन्य लोगों के साथ कैसे कर सकते हैं जो कि हमारी तरह ही काम कर रहे हैं| किस तरीके से हम सुन सकते हैं उन बारीकियों के लिए जिन से असली मायनों में नए विचारों और आविष्कारों का जन्म हो सकता है| इस सीख को हम किस तरह इस्तेमाल करें ताकि हम जिस तरह नेतृत्व करते हैं और अपने काम से जस्टिस फील्ड को आगे बढ़ा रहे हैं, वह वास्तविक रूप से बदले|

२०२२ की आगामीशाला में हम हिंदी और इंग्लिश, दोनों भाषाओं का प्रयोग करेंगे|

आगामीशाला के सदस्य

आगामीशाला में हर साल नए लोग जुड़ते हैं

2021 के सदस्य

अभय जैन

सह-संस्थापक, जेनिथ: सोसाइटी फॉर सोशियो-लीगल एम्पावरमेंट

“परिवर्तन की प्रक्रिया में मेरी क्या भूमिका है? वह मेरे बाद भी कैसे चलता रह सकता है?”

अवंती दुरानी

सहायक निदेशक और जूनियर फेलो, आईडीएफसी संस्थान / एक्सेस टू जस्टिस

“पुलिस और न्यायतंत्र सुधार जैसे क्षेत्र में बदलाव के लिए कैसे नेविगेट कर सकते हैं? एक दृष्टि और लक्ष्य संरेखित भविष्य का निर्माण कैसे कर सकते हैं?”

राहुल वोहरा

क्रिएटिव प्रोड्यूसर, कबीर खान फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड

“विशेषाधिकार’ की स्थिति वाले लोग सत्ता के संतुलन को लोगों के हाथों में सौंपने के लिए क्या कर सकते हैं?”

संतोष पूनिया

प्रमुख, कानूनी सहायता और वकालत प्रकोष्ठ - आजीविका ब्यूरो

“अपनी टीम को सक्षम बनाने के लिए कोई क्या करता है जिससे वे अपनी पूरी क्षमता का एहसास कर सकें ? आप ऐसे समाधान का निर्माण कैसे करते हैं जो सभी वर्गों के नागरिकों के लिए प्रभावी और सुलभ हो?”

तमन्ना अरोरा

वीवर, आगामी

“कुछ मुद्दों के बारे में ऐसा क्या है जो उन्हें एक आंदोलन बना देता है? आप किसी चीज़ को कैसे उभरने देते हैं जिससे की वह हमेशा बनी रहे?”

अनिरुद्ध रस्तोगी

मैनेजिंग पार्टनर, इकिगई लॉ

“उभरते भविष्य के लिए आज कौन-सी प्रथाएँ बनानी होंगी??”

मेघना श्रीनिवास

संस्थापक और कार्यकारी अधिकारी, ट्रस्टिन

“आप उन संस्थाओं का निर्माण कैसे करते हैं जो सालों तक तरक्की करती रहे? जब सुरक्षित कार्यस्थलों की बात आती है तो न्याय का क्या मान्य है? इसमें कंपनियां क्या भूमिका निभा सकती हैं?”

विक्रम कुमार

मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी, समा

“आप विवाद समाधान के विचार को बड़े पैमाने पर अपनाने के लिए कैसे आसान बना सकते हैं? आप अनेक हितधारकों से सहमति कैसे प्राप्त कर सकते हैं?”

गिरीश सीके

संस्थापक, लैंडराइट

“आप नीचे से ऊपर तक मूल्य और स्वामित्व कैसे बना सकते हैं? हम न्याय पारिस्थितिकी में अलग संभावनाओं की सीमाओं को कैसे खोज सकते हैं और आगे बढ़ा सकते हैं?”

दीपिका किन्हाल

लीड (न्यायिक सुधार) और सीनियर रेजिडेंट फेलो, विधि सेंटर फॉर लीगल पॉलिसी

“पारिस्थितिक तंत्र को आकार देने वाले लम्बे काम का मूल्यांकन कैसे किया जाता है? आप अपनी ऊर्जा को यहां और अभी के लिए कैसे बनाए रख सकते हैं?”

अक्षत सिंघल

संस्थापक, लेजीस्टीफाई

“प्रणालीगत बाधाओं और विरासत के बुनियादी ढांचे को तोड़ने के लिए क्या करना होगा? और प्रणाली को अधिक कुशल और पारदर्शी बनाने के लिए क्या कर सकते हैं?”

शिवानी सिंह

संचालन और डिजिटल सुरक्षा प्रबंधक, इंटरनेट फ्रीडम फाउंडेशन

“इस ‘अनिश्चितता के ब्लैक होल’ में युवा जिस महत्वपूर्ण काम को करने के लिए निकल पड़े हैं, उसे कैसे करते रहेंगे? उन लोगों के लिए भलाई क्या है जो वंचित समुदायों द्वारा सामना किए गए अन्याय को देखते हैं?”

स्वप्निल शुक्ला

सह-संस्थापक, जेनिथ सोसाइटी फॉर सोशियो-लीगल एम्पावरमेंट

“आप बदलाव की प्रक्रिया में अधिक से अधिक युवाओं को कैसे शामिल करते हैं? और प्रक्रिया को बनाए रखने के लिए क्या कर सकते हैं?”

सुहैब सलमान

क्रिएटिव हेड/को-फाउंडर, लॉक्टोपस/अनपढ़ वकील

“कला कानून को सुलझाने और कानूनी जागरूकता बढ़ाने में कैसे मदद कर सकती है?”

शबानी हसनवालिया

निर्माता और मुख्य संपादक, निरंतर द थर्ड आई

“क्या होता है जब बनाने की शक्ति और उपकरण उन संदर्भों को सौंप दिए जाते हैं जो परंपरागत रूप से ‘विषयों’ के रूप में काम करते हैं।?”

जाह्नवी जयंत

सह-संस्थापक, बोलती बंध

“‘थेरेपी’ के रूप में कहानी सुनाना कैसा दिखता है और कैसा लगता है? इन कहानियों को कौन बताता है और कैसे?”

जिष्णु वीतिल

संचालन प्रमुख, समा

विरोधात्मक मानसिकता को दूर करने के लिए क्या करना होगा?”

अदिती सिंह

एसोसिएट पार्टनर, डालबर्ग एडवाइजर्स

“हम न्याय को आगे बढ़ाने वाले विचारों के प्रति विकास क्षेत्र से अधिक रुचि और भागीदारी को कैसे उत्प्रेरित करें?”

अबंती दत्ता

सह संस्थापक और निदेशक, स्टूडियो नीलिमा: अनुसंधान और क्षमता निर्माण के लिए सहयोगात्मक नेटवर्क

“आप न्याय के अधिनायको के एक समुदाय का निर्माण कैसे करते हैं जो सहानुभूतिपूर्ण, प्रतिबद्ध, रचनात्मक और स्थिति-स्थापक हैं? समुदाय के सदस्यों की भूमिका क्या है?”

जस्टिस प्रभा

पूर्व न्यायाधीश, मद्रास उच्च न्यायालय

“न केवल न्याय के क्षेत्र में, बल्कि हम उन लोगों के लिए राहत तक पहुंच को सक्षम करने में कठिनाइयों को कैसे दूर करते हैं जिनके पास कोई विशेषाधिकार नहीं है?”

प्रमोद राव

ग्रुप जनरल काउंसल, आईसीआईसीआई बैंक

“विवाद समाधान, कानूनी उद्योग और आपराधिक न्याय प्रणाली के साथ संभावित उपरिशायी में विचारों को आगे बढ़ाते समय क्या चौराहे हैं? आप आम व्यक्ति और व्यावसायिक संस्थाओं दोनों के लिए लॉ-टेक की शक्ति का इस तरह से उपयोग कैसे करते हैं जो विघटनकारी और स्केलेबल हो?”

अश्विनी रावत

निदेशक, ट्रांसर्व टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड

“किसी को एक विचार की ओर प्रेरित करने के लिए कोई तालीम कैसे तोड़ता है?”

श्रेया रस्तोगी

संस्थापक सदस्य, प्रोजेक्ट 39ए

“क्या प्रणाली में परिवर्तन लाने का सबसे बेहतरीन तरीका उसके साथ और उसके ही अंदर काम करना है ?”

अक्षय रूंगटा

सह-संस्थापक और पार्टनर, ओलोई लैब्स

“आप अपने काम की उभरती हुई प्रकृति के साथ कैसे तालमेल बिठाते हैं और एक अधिनायक के रूप में आप से क्या आवश्यकताएँ हैं?”

बदरीविशाल किन्हाल

सह-संस्थापक, कॉर्ड

“आपको कैसे पता चलेगा कि आप एक अधिनायक के रूप में सही रास्ते पर हैं?”

अपूर्व आनंद

सेक्टर लीड, सिविकडाटालैब

“धारणाओं को कैसे सुलझाया जाता है? बड़ी तस्वीर में हम क्या भूमिका निभाते हैं?”

कीर्तना म

क्यूरेटर, आगामी

“विचार से क्रिया तक का सफर क्या है? हम दूसरों को ऊर्जा पूर्वक कैसे जोड़ सकते हैं?”

स्वागता राहा

हेड, रिस्टोरेटिव प्रैक्टिसेज, एनफोल्ड प्रोएक्टिव हेल्थ ट्रस्ट

“दुनिया में, हम न्याय के लिए समुदाय आधारित पुनर्स्थापनात्मक दृष्टिकोण के लिए स्वीकृति कैसे बढ़ाते हैं?”

2019 के सदस्य

“हम लोगों की विरोधात्मक मानसिकता को प्राकृतिक रूप से कैसे बदल सकते हैं??”

“हम एक सामान्य बैज/मुद्रा कैसे बना सकते हैं जो नागरिकों को उनके प्रयासों के लिए सभी प्लेटफार्मों पर पहचाने जाने में सक्षम बनाये?”

“इस यात्रा में मेरी क्या भूमिका है? यह कैसे सुनिश्चित किया जाए कि भविष्य में मैं स्वयं इसके लिए रोड़ा न बनूं?”

“यदि राज्य के सहयोग से ही पैमाना सचमुच संभव है, तो उस सहयोग की कल्पना क्या होनी चाहिए?”

“यूनिकॉर्न स्टार्टअप, आयरन मैन टाइटल और खुशहाल रिश्ते-सब कुछ एक साथ कैसे हो सकता है?”

“हम अपने गुणात्मक अनुभव को केवल संख्याओं में समझने के बजाये संगठित तरीके और प्रभावी ढंग से क्षेत्र से हमारे पास मौजूद जानकारी और डेटा का सर्वोत्तम प्रबंधन और सर्वोत्तम उपयोग कैसे करें?”

“एकाधिक प्राथमिकताओं का प्रबंधन कैसे करें और सीखने से भरा/सहयोगी संस्कृति का निर्माण कैसे करें?”

“क्या हम व्यक्ति और सामाजिक के बीच संबंधों की फिर से कल्पना कर सकते हैं- इसे और अधिक गतिशील, धारणीय और सचेत बनाने के लिए?”

“सहकार्यता में क्या बाधा डालता है और क्या उसे प्रोत्साहित करता है?”

“आप एक ऐसी प्रक्रिया के मूल्य को देखने के लिए सामाजिक व्यवहार को कैसे प्रभावित करते हैं जो प्रति-सहज लग सकती है लेकिन अधिक से अधिक अच्छे के लिए आवश्यक है”?

“मेरी टीम को कैसे बढ़ाया जाए – लोगों का बेहतर तरीके से कैसे प्रबंधित और नेतृत्व किया जाए?”

“परिवर्तन को कैसे बनाए रखें? पीड़ितों की सहायता करने में जेल क्या भूमिका निभा सकता है? कैसे “दृढ़ न्याय” को हमारी आपराधिक न्याय प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया जाए?”

“यह कैसे सुनिश्चित किया जाए कि बढ़ती जटिलता और अनिश्चितता के युग में लोग “अच्छे” और “नैतिक” बने रहें, जहां काले और सफेद के कट्टर तरीकों का शिकार होना आसान है?”

“मैं अपने काम से दुनिया में क्या प्रभाव ला सकता हूँ?”

“क्या हम सिर्फ अपनी तालीम के आधार पर सोचते हैं? हम किसकी सुन रहे हैं?”

क्यूरेटर से मिलें

मनीष श्रीवास्तव

सह निदेशक- सोशल प्रेसेंसिंग थिएटर और कोर फैकल्टी, प्रेसेंसिंग इंस्टिट्यूट

आर्तिका राज

सीनियर क्यूरेटर, आगामी

सचिन मल्हान

को - फाउंडर, आगामी

सुप्रिया शंकरन

को - फाउंडर, आगामी

इसमें कौन लोग भाग ले सकते हैं?

आगामी हर ग्रुप को, न्योता भेज के अप्लाई करने के लिए आमंत्रित करता है। यह न्योता उनको जाता है जो की :

  • जस्टिस इन्नोवेटर्स हैं जो की मानते हैं की स्वयं में बदलाव लाना, सबसे पहले ज़रूररी है
  • अपने व्यक्तिगत और काम के एक महत्वपूर्व मोड़ पर हैं 
  • जिज्ञासु हैं नए तरीके से सीखने के लिए
  • अपने ही जैसे एन्त्रेप्रेंयूर्स के साथ जुड़ना चाहते हैं 
  • भिन्न भिन्न फ़ील्ड्स से आते हैं, जैसे की लॉ, टेक्नोलॉजी, मीडिया, सोशल जस्टिस, रिसर्च और एडवोकेसी इत्यादि 
  • हिंदी या इंग्लिश भाषा में कम्यूनिकेट कर सकते हैं

यह कैसे डिज़ाइन की गयी है?

आगामीशाला की हर सीख आपके अपने अनुभव पर आधारित है। स्वानुभूति से प्राप्त हुई सीख जिसमें हम कोई डिसकशंस नहीं करते। आपके सामने सिर्फ वह सवाल और परिस्थितयां रखी जाती हैं, जिनके माध्यम से आप अपने आप से कनेक्ट कर सकें। फिर से उन भावनाओं को महसूस करें जो आपको अपना काम करने के लिए प्रेरित करती है। उन बातों से अवगत कराती हैं जो की आपके फंसा हुआ महसूस करने का मूल कारण है। और रास्ते दिखलाती हैं अपने आप को और अपने नेतृत्व करने के स्वभाव को बेहतर करने के लिए। यह सारा अनुभव आप एक ऐसे ग्रुप के साथ मिल कर करते हैं जोह आपकी तरह ही नए रास्तों की तलाश में है।

भिन्न भिन्न ग्रुप्स की लिए आगामीशाला अलग तरीके से डिज़ाइन की जाती ह। कभी ऑनलाइन और कभी ऑफलाइन, या दोनों मेडियम्स में।

आगामीशाला में जाने वालों का क्या अनुभव रहा है?

हमने यह देखा है की हर मेंबर का अनुभव अलग होता है। आप जितना खुल कर इस अनुभव में हिस्सा लेते हैं, उस हिसाब से आपकी सीख भी अलग होती है

आगामीशाला के अनुभव से जुड़े कुछ सवाल

सदस्यों द्वारा उत्तर

अवंती दुरानी, अर्थ इंडिया रिसर्च एडवाइजर्स

सेशंस के द्वारा सिस्टम को कैसे समझते हैं?

अनूप सुरेंद्रनाथ, प्रोजेक्ट ३९अ

क्या आप शाळा से जुडी किसी सीख के बारे में बता सकते हैं?

शिवानी सिंह, इंटरनेट फ्रीडम फाउंडेशन

मैं शाला के अनुभव से क्या अपेक्षा रखूं?

प्रमोद राओ, आईसीआईसीआई बैंक

आपको इस अनुभव में सबसे महत्वपूर्ण क्या लगा?

संतोष पूनिया, आजीविका ब्यूरो

आगामीशाला में किस तरह की प्रक्टिसेस होती हैं?

बदरीविशाल किन्हाल, कॉर्ड

आगामीशाला कम्युनिटी का सदस्य होना कैसा लगता है?

अगामीशाला कहाँ होती है?

और अन्य अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

कोई सवाल है?
कोई बात नहीं।

यदि हमने अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों या इस पृष्ठ के अन्य भागों में आपके प्रश्नों का उत्तर नहीं दिया है, तो बेझिझक अपने प्रश्नों के साथ हमसे संपर्क करें।

चयन की प्रक्रिया क्या है?

हर साल आगामी कुछ चुने हुए जस्टिस इन्नोवेटरस को आगामीशाला में अप्लाई करने के लिए आमंत्रित करता है। क्यूंकि उन्होंने इसका अनुभव किया है, आगामीशाला के सदस्य भी अपनी ओर से ‘पीयर आमंत्रण’ कुछ लोगों को भेजते हैं।

जिन्हें आमंत्रण मिलता है वह एक छोटे से फॉर्म को भर कर डेडलाइन पर सबमिट करते हैं। उसके बाद आगामी टीम का कोई मेंबर उनसे बात करता है और निश्चित करता है की यह अनुभव उनके लिए सही है या नहीं। जो आगामीशाला के सदस्य हैं, वह फिर से अप्लाई नहीं कर सकते ।

आगामीशाला सदस्यों को किस प्रकार का सपोर्ट मिलेगा?

हम सदस्यों की सहायता पर्सनल ग्रोथ और कम्युनिटी सपोर्ट के साथ करते हैं । प्रत्येक आगामीशाला सदस्य इस तरह के सपोर्ट को प्राप्त कर सकता है:

* आगामीशाला में सलाहकार और विशेषज्ञों से मार्गदर्शन

* टीम आगामी से संसाधन की जरूरत पड़ने पर सहायता ।

* जरूरत के आधार पर संबंधित नेटवर्क सदस्यों से महत्वपूर्ण परिचय ।

*वार्षिक आगामीशाला यूनाइटेड में जुड़ना

आगामीशाला कहाँ होती है?

हम हर ग्रुप के लिए अलग तरीके से डिज़ाइन करते हैं।

August 22 में शुरू होने वाली शाला (August 25 – 28 ) एक 5 महीने का अनुभव है जिसकी शुरुआत एक offline retreat के साथ होगी (जगह अभी निश्चित होनी है ), फिर September – November हर महीने 2 – 3 ऑनलाइन सेशन होंगे, और फिर December 8 को हम सब, सारे शाळा के सदस्य, अगामीशाला यूनाइटेड पर मिलेंगे जो की आगामी Summit (December 9 – 11, पंचगनी) के एक दिन पहले होगी | Online session ज़्यादा तर weekend पर होंगे और 2.5 घंटे या 20 मिनट के चेक-इन होंगे| हम जानते हैं सब ज़ूम से थक चुके हैं!

क्या कोई पार्टिसिपेशन फी है?

नहीं, अगामीशाला में पार्टिसिपेट करने की कोई फी नहीं है।

July 21 – 24 की ऑफलाइन रिट्रीट का सारा प्रभंद आगामी द्वारा किया जायेगा। अगामीशाला यूनाइटेड जो की December 8 , पंचगनी में होगी उसका प्रभंध भी आगामी करेगा। सदस्यों को सिर्फ अपने आने जाने का खर्चा देना होगा। एक्सेप्शन देखे जा सकते हैं। आगामी समिट के लिए शाला के सदस्यों को डिस्काउंटेड सपोर्ट पास उपलब्ध कराये जायेंगे।

आगामीशाला प्रतिभागियों से क्या अपेक्षा की जाती है?

कुछ अपेक्षाएं:

* 5 महीनों के दौरान पूर्ण और व्यस्त भागीदारी
*July के अंत से December 2022 की शुरुआत तक सब सेशंस ओर रिट्रीट्स में जुड़ना
*मंथली बात चीत के लिए आगामी टीम के साथ एक्टिव कम्युनिकेशन।
*एनुअल सर्वे, टेस्टिमोनियल, और डाटा कलेक्शन करने के लिए दिसंबर 2022 से मार्च 2023 तक सक्रिय रूप से संपर्क में रहना।

अगर मैं अनिश्चित हूं कि आगामीशाला मेरे लिए है भी या नहीं?

कोई बात नहीं। हम से बात करिए। अपनी एप्लीकेशन भरने से पहले अनुभव के बारे में बातचीत के लिए बेझिझक आगे बढ़े।

Contact Us

team@agami.in

NOW WE MAKE JUSTICE·

NOW WE MAKE JUSTICE·

NOW WE MAKE JUSTICE·

NOW WE MAKE JUSTICE·

NOW WE MAKE JUSTICE·